Know The Date, Time And Puja Rituals


मार्गशीर्ष अमावस्या का हिंदुओं में बहुत महत्व है। इसे मृगशिरा अमावस्या के रूप में भी जाना जाता है और मार्गशीर्ष के महीने में कृष्ण पक्ष के 15वें दिन मनाया जाता है।

इस दिन प्रात: काल पवित्र नदियों में स्नान करने और फिर जरूरतमंदों को भोजन कराने की परंपरा है। लोगों का मानना ​​है कि ऐसा करने से उनके पाप दूर हो जाते हैं। ऐसा करने से पितर तृप्त होते हैं और तर्पण करने वाले को उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

मार्गशीर्ष अमावस्या – तिथि और समय:

मार्गशीर्ष अमावस्या तिथि प्रारंभ: आज 23 नवंबर दिन बुधवार को सुबह 06 बजकर 53 मिनट से

मार्गशीर्ष अमावस्या तिथि समाप्त: कल 24 नवंबर दिन गुरुवार को सुबह 04 बजकर 26 मिनट पर

सूर्योदय: सुबह 06:50 बजे

सर्वार्थ सिद्धि योग: आज रात 09:37 बजे से कल सुबह 06:51 बजे तक

शोभन योग: आज दोपहर 03 बजकर 40 मिनट तक

अमृत ​​सिद्धि योग: आज रात 09:37 बजे से कल सुबह 06:51 बजे तक

स्नान-दान का समय: प्रात: 06.40 से 08.01 बजे तक

पूजा अनुष्ठान:

सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें।

इसके बाद सूर्य देव को जल, पुष्प, अक्षत और लाल चंदन से अर्घ्य दें और सूर्य मंत्र का जाप करें।

घी का दीया जलाएं और जल अर्पित कर पितरों को प्रणाम करें। ऐसा करने से पितर प्रसन्न होते हैं जिससे वे प्रसन्न होते हैं और वे आपको सुखी जीवन का आशीर्वाद देते हैं।

फिर सात्विक भोजन बनाकर ब्राह्मणों को भोग लगाएं।

उसके बाद परिवार के बड़े पुरुष सदस्य पितृ तर्पण करेंगे।

इसके बाद किसी गरीब ब्राह्मण को वस्त्र, भोजन, कंबल आदि का दान करें। यह दान अपनी सामर्थ्य के अनुसार ही करना चाहिए।

अगर आपको पितृ दोष है तो आप इस दिन अपने पूर्वजों का श्राद्ध, पिंडदान आदि कर सकते हैं। इससे पितृ दोष दूर होगा।

इस दिन कौए, कुत्ते और गाय को भोजन कराना बहुत शुभ माना जाता है।

सभी पढ़ें नवीनतम जीवन शैली समाचार यहां



Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: